मैं शून्य पे सवार हूँ

मैं शून्य पे सवार हूँ
बेअदब सा मैं खुमार हूँ
अब मुश्किलों से क्या डरूं
मैं खुद कहर हज़ार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ

उंच-नीच से परे
मजाल आँख में भरे
मैं लड़ रहा हूँ रात से
मशाल हाथ में लिए
न सूर्य मेरे साथ है
तो क्या नयी ये बात है
वो शाम होता ढल गया
वो रात से था डर गया
मैं जुगनुओं का यार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ

भावनाएं मर चुकीं
संवेदनाएं खत्म हैं
अब दर्द से क्या डरूं
ज़िन्दगी ही ज़ख्म है
मैं बीच रह की मात हूँ
बेजान-स्याह रात हूँ
मैं काली का श्रृंगार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ

हूँ राम का सा तेज मैं
लंकापति सा ज्ञान हूँ
किस की करूं आराधना
सब से जो मैं महान हूँ
ब्रह्माण्ड का मैं सार हूँ
मैं जल-प्रवाह निहार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ

Me Shunya Pe Sawar Hu Poem

main shoony pe savaar hoon
beadab sa main khumaar hoon
ab mushkilon se kya daroon
main khud kahar hazaar hoon
mai sunya pe sawar hu
main shunya pe sawar hoon

unch-neech se pare
majaal aankh mein bhare
main lad raha hoon raat se
mashaal haath mein lie
na soory mere saath hai
to kya nayee ye baat hai
vo shaam hota dhal gaya
vo raat se tha dar gaya
main juganuon ka yaar hoon
main shoony pe savaar hoon

me shunya pe sawar hu
bhaavanaen mar chukeen
sanvedanaen khatm hain
ab dard se kya daroon
zindagee hee zakhm hai
main beech rah kee maat hoon
bejaan-syaah raat hoon
main kaalee ka shrrngaar hoon
main shoony pe savaar hoon
mai shunya pe sawar hu

hoon raam ka sa tej main
lankaapati sa gyaan hoon
kis kee karoon aaraadhana
sab se jo main mahaan hoon
brahmaand ka main saar hoon
main jal-pravaah nihaar hoon
main shoony pe savaar hoon
main shunya pe sawar hu

Leave a Comment