देर तक रौशनी रही कल रात

Der Tak Raushni Rahi Kal Raat - देर तक रौशनी रही कल रात

देर तक रौशनी रही कल रात मैं ने ओढ़ी थी चाँदनी कल रात, एक मुद्दत के ब’अद धुँद छुट्टी दिल ने अपनी कही सुनी कल रात, उँगलियाँ आसमान छूती थीं हाँ मिरी दस्तरस में थी कल रात, उठता जाता था पर्दा-ए-निस्याँ एक इक बात याद थी कल रात, ताक़-ए-दिल पे थी घुंघरूओं की सदा इक … Read more

बरसों हुए तुम कहीं नहीं हो

Barson Hue Tum Kahin Nahin Ho - बरसों हुए तुम कहीं नहीं हो

बरसों हुए तुम कहीं नहीं हो आज ऐसा लगा यहीं कहीं हो, महसूस हुआ कि बात की है और बात भी वो जो दिल-नशीं हो, इम्कान हुआ कि वहम था सब इज़हार हुआ कि तुम यक़ीं हो, अंदाज़ा हुआ कि रह वही है उम्मीद बढ़ी कि तुम वहीं हो, अब तक मिरे नाम से है … Read more