मैं सबसे छोटी होऊँ

मैं सबसे छोटी होऊँ
तेरा अंचल पकड़-पकड़कर
फिरूँ सदा माँ! तेरे साथ
कभी न छोड़ूँ तेरा हाथ,

बड़ा बनाकर पहले हमको
तू पीछे छलती है मात
हाथ पकड़ फिर सदा हमारे
साथ नहीं फिरती दिन-रात,

अपने कर से खिला, धुला मुख
धूल पोंछ, सज्जित कर गात
थमा खिलौने, नहीं सुनाती
हमें सुखद परियों की बात,

ऐसी बड़ी न होऊँ मैं
तेरा स्नेह न खोऊँ मैं
तेरे अंचल की छाया में
छिपी रहूँ निस्पृह, निर्भय
कहूँ—दिखा दे चंद्रोदय।

Mai Sabse Choti Hou

Main Sabase Chhoti Hooon
Terii Godii Men Sooon
Teraa Anchal Pakad-Pakadkar
Firoo Sadaa Maan Tere Saath,

Kabhii N Chhodoon Teraa Haath
Badaa Banakar Pahale Hamako
Too Pichhe Chhalati Hai Maat
Haath Pakad Fir Sadaa Hamaare,

Saath Nahin Firati Din-Raat
Apane Kar Se Khilaa, Dhulaa Mukh
Dhool Ponchh, Sajjit Kar Gaat
Thamaa Khilaune, Nahin Sunaati,

Hamen Sukhad Pariyon Ki Baat
Aisi Badi N Hooon Main
Teraa S‍neh N Khooon Main
Tere Anchal Ki Chhaayaa Men
Chhipi Rahoon Nis‍prih, Nirbhay
Kahoon-Dikhaa De Chandroday.

Leave a Comment