सुन तो नीं काल मरेंदा ई

सुन तो नीं काल मरेंदा ई
हरि भजि लै गाहक वैंदा ई ।रहाउ।

डूंघे जल विचि मछुली वस्सदी
भै साहब दा मन नहीं रक्खदी
उस मच्छली नूं जाल ढूंढेंदा ई,

मीर मलकु पातिशाहु शाहज़ादे
झुलदे नेज़े वज्जदे वाजे
विच घड़ी फ़नाह करेंदा ई,

कोठे ममटु ते चउबारे
वसि वसि गए कई लोकु विचारे
इक पलकु न रहने देंदा ई,

चिड़ी जिन्दड़ी कालि सिचाणा
निसदिन बैठा लाय ध्याना
उह अजि कलि तैनूं फसेंदा ई,

कहै हुसैन फ़क़ीर निमाणा
दुनियां छोडि आख़िर मर जाणा
नरु कूड़ा मान करेंदा ई।

Leave a Comment