इसी गली में वो भूखा किसान रहता है

इसी गली में वो भूखा किसान रहता है
ये वो ज़मीन है जहाँ आसमान रहता है,

मैं डर रहा हूँ हवा से ये पेड़ गिर न पड़े
कि इस पे चिडियों का इक ख़ानदान रहता है,

सड़क पे घूमते पागल की तरह दिल है मेरा
हमेशा चोट का ताज़ा निशान रहता है,

तुम्हारे ख़्वाबों से आँखें महकती रहती हैं
तुम्हारी याद से दिल जाफ़रान रहता है,

हमें हरीफ़ों की तादाद क्यों बताते हो
हमारे साथ भी बेटा जवान रहता है,

सजाये जाते हैं मक़तल मेरे लिये ‘राना’
वतन में रोज़ मेरा इम्तहान रहता है।

Isi Gali Me Wo Bhookha Kisaan Rehta Hai

Isi Gali Me Wo Bhookha Kisaan Rehta Hai
Ye Wo Zameen Hai Jahan Aasmaan Rehta Hai,

Main Dar Raha Hoon Hawa Se Ye Ped Gir Na Pade
Ki Is Ped Pe Chidiyon Ka Ik Khandan Rehta Hai,

Sadak Pe Ghoomte Paagal Ki Tarah Dil Hai Mera
Hamesha Chot Ka Taza Nishaan Rehta Hai,

Tumhare Khwabon Se Aankhe Mahakti Rehti Hai
Tumhari Yaad Se Dil Zaafraan Rehta Hai,

Hume Hareefon Ki Tadaad Kyon Bataate Ho
Humare Saath Bhi Beta Jawan Rehta Hai,

Sajaaye Jate Hai Maqtal Mere Liye “Rana”
Watan Me Roz Mera Imthaan Rehta Hai.

Leave a Comment