सबकी रज़ा बता दे बताने वाले

सबकी रज़ा बता दे बताने वाले
दिल मोम का बना दे बनाने वाले

हम और कुछ नहीं चाहते हैं तुझसे
आँखों चुना दिखा दे दिखाने वाले

जो भी किया हमारे लिए तूने सब
उसका निशाँ दिखा दे दिखाने वाले

हसरत यही रहेगी सदा जीते जी
अरमान सब जगा दे जगाने वाले

हम कारवाँ बनाकर सफ़र भी करते
सबकी रज़ा मिला दे मिलाने वाले

छेड़े अगर तिरी शान को तो उसका
नाम-ओ-निशाँ मिटा दे मिटाने वाले

Leave a Comment