निरख सखी ये खंजन आए

निरख सखी ये खंजन आए
फेरे उन मेरे रंजन ने नयन इधर मन भाए,
फैला उनके तन का आतप मन से सर सरसाए
घूमे वे इस ओर वहाँ ये हंस यहाँ उड़ छाए,
करके ध्यान आज इस जन का निश्चय वे मुसकाए
फूल उठे हैं कमल अधर से यह बन्धूक सुहाए,
स्वागत स्वागत शरद भाग्य से मैंने दर्शन पाए
नभ ने मोती वारे लो ये अश्रु अर्घ्य भर लाए।

निरख सखी ये खंजन आए

Nirakh Sakhee Ye Khanjan Aae
Phere Un Mere Ranjan Ne Nayan Idhar Man Bhae,
Phaila Unake Tan Ka Aatap Man Se Sar Sarasae
Ghoome Ve Is or Vahaan Ye Hans Yahaan Ud Chhae,
Karake Dhyaan Aaj Is Jan Ka Nishchay Ve Musakae
Phool Uthe Hain Kamal Adhar Se Yah Bandhook Suhae,
Svaagat Svaagat Sharad Bhaagy Se Mainne Darshan Pae
Nabh Ne Motee Vaare Lo Ye Ashru Arghy Bhar Lae.

Leave a Comment