मधुर मधुर मेरे दीपक जल

मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
युग-युग प्रतिदिन प्रतिक्षण प्रतिपल
प्रियतम का पथ आलोकित कर,

सौरभ फैला विपुल धूप बन
मृदुल मोम-सा घुल रे, मृदु-तन
दे प्रकाश का सिन्धु अपरिमित
तेरे जीवन का अणु गल-गल
पुलक-पुलक मेरे दीपक जल,

तारे शीतल कोमल नूतन
माँग रहे तुझसे ज्वाला कण
विश्व-शलभ सिर धुन कहता मैं
हाय, न जल पाया तुझमें मिल
सिहर-सिहर मेरे दीपक जल,

जलते नभ में देख असंख्यक
स्नेह-हीन नित कितने दीपक
जलमय सागर का उर जलता
विद्युत ले घिरता है बादल
विहँस-विहँस मेरे दीपक जल,

द्रुम के अंग हरित कोमलतम
ज्वाला को करते हृदयंगम
वसुधा के जड़ अन्तर में भी
बन्दी है तापों की हलचल
बिखर-बिखर मेरे दीपक जल,

मेरे निस्वासों से द्रुततर
सुभग न तू बुझने का भय कर
मैं अंचल की ओट किये हूँ
अपनी मृदु पलकों से चंचल
सहज-सहज मेरे दीपक जल,

सीमा ही लघुता का बन्धन
है अनादि तू मत घड़ियाँ गिन
मैं दृग के अक्षय कोषों से
तुझमें भरती हूँ आँसू-जल
सहज-सहज मेरे दीपक जल,

तुम असीम तेरा प्रकाश चिर
खेलेंगे नव खेल निरन्तर
तम के अणु-अणु में विद्युत-सा
अमिट चित्र अंकित करता चल
सरल-सरल मेरे दीपक जल,

तू जल-जल जितना होता क्षय
यह समीप आता छलनामय
मधुर मिलन में मिट जाना तू
उसकी उज्जवल स्मित में घुल खिल
मदिर-मदिर मेरे दीपक जल
प्रियतम का पथ आलोकित कर।

Madhur Madhur Mere Deepak Jal

Madhur Madhur Mere Dipak Jal
Yug Yug Pratidin Pratixan Pratipal
Priyatam Kaa Path Aalokit Kar,

Saurabh Phailaa Vipul Dhup Ban
Mr^idul Mom Saa Ghul Re Mr^idu Tan
De Prakaash Kaa Sindhu Aparimit
Tere Jivan Kaa Anu Anu Gal
Pulak Pulak Mere Dipak Jal,

Saare Shital Komal Nutan
Maang Rahe Tujhase Jvaalaa-Kan
Vishva-Shalabh Sir Dhun Kahataa ‘Mai
Haay Na Jal Paayaa Tujh Me Mil’
Sihar Sihar Mere Dipak Jal,

Jalate Nabh Me Dekh Asakhyak
Snehahin Nit Kitane Dipak
Jalamaya Saagar Kaa Ur Jalataa
Vidyut Le Ghirataa Hai Baadal
Vihans Vihans Mere Dipak Jal,

Drum Ke Ag Harit Komalatam
Jvaalaa Ko Karate Hr^idayagam
Vasudhaa Ke Jad Atar Me Bhi
Bandi Hai Taapo Ki Halachal
Bikhar Bikhar Mere Dipak Jal,

Meri Nishvaaso Se Drutatar
Subhaga Na Tu Bujhane Kaa Bhay Kar
Mai Anchal Ki Ot Kiye Hun
Apani Mr^idu Palako Se Chachal
Sahaj Sahaj Mere Dipak Jal,

Simaa Hi Laghutaa Kaa Badhan
Hai Anaadi Tu Mat Ghadiyaan Gin
Mai Dr^ig Ke Axay Kosho Se
Tujh Me Bharati Hun Aansu Jal
Sajal Sajal Mere Dipak Jal,

Tama Asim Teraa Prakaash Chir
Khelege Nava Khel Niratar
Tama Ke Anu Anu Me Vidyut Saa
Amit Chitra Akit Karataa Chal
Saral Saral Mere Dipak Jal,

Tu Jal Jal Jitanaa Hotaa Xaya
Vah Samip Aataa Chhalanaamaya
Madhur Milan Me Mit Jaanaa Tu
Usaki Ujjvala Smita Me Ghul Khil
Mandir Mandir Mere Dipak Jal
Priyatama Kaa Path Aalokit Kar

Leave a Comment