मेरे देश की धरती सोना उगले (देश भक्ति गीत)

मेरे देश की धरती सोना उगले उगले हीरे मोती
मेरे देश की धरती,

बैलों के गले में जब घुँघरू जीवन का राग सुनाते हैं
ग़म कोस दूर हो जाता है खुशियों के कंवल मुस्काते हैं
सुन के रहट की आवाज़ें यूँ लगे कहीं शहनाई बजे
आते ही मस्त बहारों के दुल्हन की तरह हर खेत सजे,

मेरे देश की धरती सोना उगले उगले हीरे मोती
मेरे देश की धरती,

जब चलते हैं इस धरती पे हल ममता अँगड़ाइयाँ लेती है
क्यों ना पूजें इस माटी को जो जीवन का सुख देती है
इस धरती पे जिसने जन्म लिया उसने ही पाया प्यार तेरा
यहाँ अपना पराया कोई नहीं हैं सब पे है माँ उपकार तेरा,

मेरे देश की धरती सोना उगले उगले हीरे मोती
मेरे देश की धरती,

ये बाग़ हैं गौतम नानक का खिलते हैं अमन के फूल यहाँ
गांधी, सुभाष, टैगोर, तिलक ऐसे हैं चमन के फूल यहाँ
रंग हरा हरिसिंह नलवे से रंग लाल है लाल बहादुर से
रंग बना बसंती भगतसिंह से रंग अमन का वीर जवाहर से,

मेरे देश की धरती सोना उगले उगले हीरे मोती
मेरे देश की धरती।

Mere Desh Ki Dharti

Mere Desh Ki Dharti Sona Ugale
Ugale Hire Moti
Mere Desh Ki Dharti.

Bailon Ke Gale Mein Jab Ghungharoo
Jeevan Ka Raag Sunaate Hain
Gam Kos Door Ho Jaate Hai
Khushiyon Ke Kamal Muskaate Hain
Sun Ke Rahat Ki Aavaazen
Yoon Lage Kaheen Shahanaee Baje
Aate Hee Mast Bahaaron Ke
Dulhan Ki Tarah Har Khet Saje.

Mere Desh Ki Dharti Sona Ugale
Ugale Hire Moti
Mere Desh Ki Dharti.

Jab Chalate Hain Is Dharti Par Hal
Mamata Angadaiyaan Letee Hai
Kyon Na Poojen Is Maatee Ko
Jo Jeevan Ka Sukh Detee Hai
Is Dharti Pe Jisane Janm Liya
Usane Hee Paaya Pyaar Tera
Yahaan Apana Paraaya Koee Nahee
Hain Sab Pe Hai Maan Upakaar Tera.

Mere Desh Ki Dharti Sona Ugale
Ugale Hire Moti
Mere Desh Ki Dharti.

Ye Baag Hain Gautam Naanak Ka
Khilate Hain Aman Ke Phool Yahaan
Gaandhee Subhaash Taigor Tilak
Aise Hain Chaman Ke Phool Yahaan
Rang Hara Harisinh Nalave Se
Rang Laal Hai Laal Bahaadur Se
Rang Bana Basantee Bhagatasinh
Rang Aman Ka Veer Javaahar Se.

Mere Desh Ki Dharti Sona Ugale
Ugale Hire Moti
Mere Desh Ki Dharti.

Leave a Comment