मिरे सुख़न को अनोखे कमाल देता है

Mere Sukhan Ko Anokhe Kamal Deta Hai - मिरे सुख़न को अनोखे कमाल देता है

मिरे सुख़न को अनोखे कमाल देता है तिरा ख़याल मिरा दिल उजाल देता है, मैं तुझ को सोच के लिक्खूँ तो ये क़लम मेरा मिरे हुनर को नए ख़द्द-ओ-ख़ाल देता है, ज़माना वक़्त की सूरत है मेहरबाँ मुझ पर हर एक ज़ख़्म पए-इंदिमाल देता है, बिसात-ए-ज़ीस्त पे हर आन फेंक कर पाँसा कोई तो वक़्त … Read more

अमानत में ख़यानत हो रही है

Amanat Mein Khayanat Ho Rahi Hai - अमानत में ख़यानत हो रही है

अमानत में ख़यानत हो रही है सलीक़े से तिजारत हो रही है, नहीं महफ़ूज़ कोई अपने घर में मगर घर की हिफ़ाज़त हो रही है, सभी के ख़्वाब की ता’बीर ग़म है तो फिर किस को बशारत हो रही है, हमीं ने ख़ून से सींचा वतन को हमीं से फिर शिकायत हो रही है, खड़े … Read more