अभी किसी के न मेरे कहे से गुज़रेगा

abhi kisi ke na mere kahe se guzrega - अभी किसी के न मेरे कहे से गुज़रेगा

अभी किसी के न मेरे कहे से गुज़रेगा वो ख़ुद ही एक दिन इस दाएरे से गुज़रेगा, भरी रहे अभी आँखों में उस के नाम की नींद वो ख़्वाब है तो यूँही देखने से गुज़रेगा, जो अपने आप गुज़रता है कूचा-ए-दिल से मुझे गुमाँ था मिरे मशवरे से गुज़रेगा, क़रीब आने की तम्हीद एक ये … Read more