वो बुलाएँ तो क्या तमाशा हो

Wo Bulaen to Kya Tamasha Ho - वो बुलाएँ तो क्या तमाशा हो

वो बुलाएँ तो क्या तमाशा हो हम न जाएँ तो क्या तमाशा हो, ये किनारों से खेलने वाले डूब जाएँ तो क्या तमाशा हो, बंदा-पर्वर जो हम पे गुज़री है हम बताएँ तो क्या तमाशा हो, आज हम भी तिरी वफ़ाओं पर मुस्कुराएँ तो क्या तमाशा हो, तेरी सूरत जो इत्तिफ़ाक़ से हम भूल जाएँ … Read more

ऐ दिल-ए-बे-क़रार चुप हो जा

ai dil e be qarar chup ho ja - ऐ दिल-ए-बे-क़रार चुप हो जा

ऐ दिल-ए-बे-क़रार चुप हो जा जा चुकी है बहार चुप हो जा, अब न आएँगे रूठने वाले दीदा-ए-अश्क-बार चुप हो जा, जा चुका कारवान-लाला-ओ-गुल उड़ रहा है ग़ुबार चुप हो जा, छूट जाती है फूल से ख़ुश्बू रूठ जाते हैं यार चुप हो जा, हम फ़क़ीरों का इस ज़माने में कौन है ग़म-गुसार चुप हो … Read more