परेशाँ रात सारी है सितारों तुम तो सो जाओ

pareshan raat sari hai sitaro tum to so jao

परेशाँ रात सारी है सितारो तुम तो सो जाओ सुकूत-ए-मर्ग तारी है सितारो तुम तो सो जाओ, हँसो और हँसते हँसते डूबते जाओ ख़लाओं में हमीं पे रात भारी है सितारो तुम तो सो जाओ, हमें तो आज की शब पौ फटे तक जागना होगा यही क़िस्मत हमारी है सितारो तुम तो सो जाओ, तुम्हें … Read more