दिन छुपा और ग़म के साए ढले

Din Chhupa Aur Gham Ke Sae Dhale - दिन छुपा और ग़म के साए ढले

दिन छुपा और ग़म के साए ढले आरज़ू के नए चराग़ जले, हम बदलते हैं रुख़ हवाओं का आए दुनिया हमारे साथ चले, लब पे हिचकी भी है तबस्सुम भी जाने हम किस से मिल रहे हैं गले, दिल के इन हौसलों का हाल न पूछ जो तिरे दामन-ए-करम में पले, कौन याद आ गया … Read more

तुम न मानो मगर हक़ीक़त है

Tum Na Mano Magar Haqiqat Hai - तुम न मानो मगर हक़ीक़त है

तुम न मानो मगर हक़ीक़त है इश्क़ इंसान की ज़रूरत है, जी रहा हूँ इस ए’तिमाद के साथ ज़िंदगी को मिरी ज़रूरत है, हुस्न ही हुस्न जल्वे ही जल्वे सिर्फ़ एहसास की ज़रूरत है, उस के वादे पे नाज़ थे क्या क्या अब दर-ओ-बाम से नदामत है, उस की महफ़िल में बैठ कर देखो ज़िंदगी … Read more