आँख भर आई किसी से जो मुलाक़ात हुई

aankh bhar aai kisi se jo mulaqat hui - आँख भर आई किसी से जो मुलाक़ात हुई

आँख भर आई किसी से जो मुलाक़ात हुई ख़ुश्क मौसम था मगर टूट के बरसात हुई, दिन भी डूबा कि नहीं ये मुझे मालूम नहीं जिस जगह बुझ गए आँखों के दिए रात हुई, कोई हसरत कोई अरमाँ कोई ख़्वाहिश ही न थी ऐसे आलम में मिरी ख़ुद से मुलाक़ात हुई, हो गया अपने पड़ोसी … Read more