मुन्फ़इल था तिरा जल्वा क्या क्या

Munfail Tha Tera Jalwa Kya Kya - मुन्फ़इल था तिरा जल्वा क्या क्या

मुन्फ़इल था तिरा जल्वा क्या क्या हम ने समझा तिरा मंशा क्या क्या, एक था लफ़्ज़-ए-मोहब्बत जिस से मसअले हो गए पैदा क्या क्या, तू ही ख़ुद देख कि तेरे लिए काम मर गया हर्फ़-ए-तमन्ना क्या क्या, कौन जाने कि तुझे बिन देखे तुझ से मिलता है सहारा क्या क्या, जब न देखा उन्हें देखा … Read more

क्या क्या दिए फ़रेब हर इक एतिबार ने

Kya Kya Diye Fareb Har Ek Etibar Ne - क्या क्या दिए फ़रेब हर इक एतिबार ने

क्या क्या दिए फ़रेब हर इक ए’तिबार ने अपना बना दिया है तिरे इंतिज़ार ने, क्या जाने कितने अहल-ए-तरीक़त को आज तक गुमराह कर दिया है तिरे रहगुज़ार ने, कुछ उन की जुस्तुजू है न कुछ अपनी गुफ़्तुगू ये क्या बना दिया सितम-ए-रोज़गार ने, हाँ ऐ निगाह-ए-गर्म न कर मुख़्तसर हयात हम को हज़ार बोझ … Read more