शोला ही सही आग लगाने के लिए आ

Shola Hi Sahi Aag Lagane Ke Liye Aa - शोला ही सही आग लगाने के लिए आ

शोला ही सही आग लगाने के लिए आ फिर नूर के मंज़र को दिखाने के लिए आ, ये किस ने कहा है मिरी तक़दीर बना दे आ अपने ही हाथों से मिटाने के लिए आ, ऐ दोस्त मुझे गर्दिश-ए-हालात ने घेरा तू ज़ुल्फ़ की कमली में छुपाने के लिए आ, दीवार है दुनिया इसे राहों … Read more

ये कौन आ गई दिल-रुबा महकी महकी

Ye Kaun Aa Gai Dil-Ruba Mahki Mahki - ये कौन आ गई दिल-रुबा महकी महकी

ये कौन आ गई दिल-रुबा महकी महकी फ़ज़ा महकी महकी हवा महकी महकी, वो आँखों में काजल वो बालों में गजरा हथेली पे उस के हिना महकी महकी, ख़ुदा जाने किस किस की ये जान लेगी वो क़ातिल अदा वो क़ज़ा महकी महकी, सवेरे सवेरे मिरे घर पे आई ऐ ‘हसरत’ वो बाद-ए-सबा महकी महकी। … Read more