मुस्तफा जाने रहमत पे लाखों सलाम

Mustafa Jane Rehmat Pe Lakhon Salam

मुस्तफा जाने रहमत पे लाखों सलाम शमए बज्मे हिदायत पे लाखों सलाम, शहरे यारे इरम ताजदारे हरम नौ बहारे शफाअत पे लाखों सलाम, हम गरीबों के आका पे बेहद दरुद हम फकीरों के सरवत पे लाखों सलाम, जिस के माथे शफ़ाअ़त का सेहरा रहा उस जबीने सआ़दत पे लाखों सलाम, जिस सुहानी घड़ी चमका तैबा … Read more