मैं तुझे फिर मिलूँगी

मैं तुझे फिर मिलूँगी
कहाँ कैसे पता नहीं
शायद तेरे कल्पनाओं
की प्रेरणा बन
तेरे केनवास पर उतरुँगी
या तेरे केनवास पर
एक रहस्यमयी लकीर बन
ख़ामोश तुझे देखती रहूँगी
मैं तुझे फिर मिलूँगी
कहाँ कैसे पता नहीं

या सूरज की लौ बन कर
तेरे रंगो में घुलती रहूँगी
या रंगो की बाँहों में बैठ कर
तेरे केनवास पर बिछ जाऊँगी
पता नहीं कहाँ किस तरह
पर तुझे ज़रुर मिलूँगी

या फिर एक चश्मा बनी
जैसे झरने से पानी उड़ता है
मैं पानी की बूंदें
तेरे बदन पर मलूँगी
और एक शीतल अहसास बन कर
तेरे सीने से लगूँगी

मैं और तो कुछ नहीं जानती
पर इतना जानती हूँ
कि वक्त जो भी करेगा
यह जनम मेरे साथ चलेगा
यह जिस्म ख़त्म होता है
तो सब कुछ ख़त्म हो जाता है

पर यादों के धागे
कायनात के लम्हें की तरह होते हैं
मैं उन लम्हों को चुनूँगी
उन धागों को समेट लूंगी
मैं तुझे फिर मिलूँगी
कहाँ कैसे पता नहीं

मैं तुझे फिर मिलूँगी!!

Main Tujhe Phir Milungi

Main Tujhe Phir Milugi
Kahan Kaise Pata Nahi
Shayad Tere Kalpanao
Ki Prerana Ban
Tere Canvas Par Utroongi
Ya Tere Canvas Par
Ek Rahasyamayi Lakeer Ban
Khamosh Tujhe Dekhti Rahugi
Main Tujhe Phir Milugi
Kahan Kaise Pata Nahi

Yaa Sooraj Ki Lau Ban Kar
Tere Rango Mein Ghulti Rahugi
Yaa Rango Ki Baahon Mein Baithkar
Tere Canvas Par Bicch Jaungi
Pata Nahi Kahan Kis Tarah
Par Tujhe Jaroor Milugi

Yaa Phir Ek Chashma Bani
Jaise Jharne Se Paani Udta Hai
Main Paani Ki Boondein
Tere Badan Par Milugui
Aur Ek Sheetal Ehsaas Ban Kar
Tere Seene Se Lagugi

Main Aur To Kuch Nahi Jaanti
Par Itna Jaanti Hoon
Ki Waqt Jo Bhi Karega
Yah Janam Mere Saath Chalega
Yah Jism Khatam Hota Hai
To Sab Kuch Khatam Ho Jata Hai

Par Yaadon Ke Dhaage
Kainaat Ke Lamhe Ki Tarah Hote Hai
Main Unn Lamho Ko Chunugi
Unn Dhaago Ko Samet Lungi
Main Tujhe Phir Milugi
Kahan Kaise Pata Nahi

Main Tujhe Phir Milugi.

Leave a Comment